बुधवार, 15 नवंबर 2017

मन में जले जो दीप अक़ीदत का दोस्तो


नभ अब्र से भरा हो निहाँ चाँदनी रहे
तब जुगनुओं से ही यहाँ शबगर्दगी रहे

मन में जले जो दीप अक़ीदत का दोस्तो
उनके घरों में फिर न कभी तीरगी रहे

कटते रहे शजर और बनते रहे मकाँ
हर ही तरफ धुआँ है कहाँ आदमी रहे

आकाश में बची हुई बूँदें धनक बनीं
हमदर्द जो हों लफ़्ज़ तो यह ज़िन्दगी रहे

हर उलझनों के बाद भी ये ज़िन्दगी चली
बचपन के जैसा मन में सदा ताज़गी रहे

*गिरह
भायी नहीं हमें तो कभी चापलूसियाँ
मिलते रहे सभी से मगर अजनबी रहे(ज़नाब निदा फ़ाज़ली)

-ऋता शेखर ‘मधु’
अब्र-बादल
निहाँ- छुपी रही
शबगर्दगी-रात की पहरेदारी

शुक्रवार, 10 नवंबर 2017

बचपन के जैसा फिर यहाँ मंजर नहीं देखा

बचपन के जैसा फिर यहाँ मंजर नहीं देखा
गोदी हो जैसे माँ की, वो बिस्तर नहीं देखा

हिन्दू या मुसलमान में आदम यहाँ उलझे
हों सिर्फ़ जो इंसान वो लश्कर नहीं देखा

धरती पे लकीरें हैं दिलों में हैं दरारें
काटे जो समंदर वही नश्तर नहीं देखा

बिखरे जो कभी गुल तो, रहे साथ में ख़ुशबू
जो तोड़ दे जज़्बात वो पत्थर नहीं देखा

शीरीं हो ज़ुबाँ और मुहब्बत की अदब हो
संसार में उसको किसी का डर नहीं देखा
-ऋता शेखर ‘मधु’

मंगलवार, 7 नवंबर 2017

पत्ते और फूल

पत्ते और फूल

दोनों संस्कारी थे। दोनों पढ़े लिखे थे। दोनो अपने घर के बुजुर्गों के लिए समर्पित थे।दोनो बच्चों की भलाई के लिए उन्हें पर्याप्त समय देते थे। दोनो अपने अपने कार्यस्थल के कुशल अधिकारी थे। मानव स्वभाव के एक पहलू का अतिरेक उनकी अच्छाइयों के ऊपर काली कम्बल डाल देता। अपनी अपनी बातों के ऊपर डटे रहने की उनकी आदत कई बार भीषण बहस का रूप धारण कर लेती जिस कारण माहौल सहम जाता घर का। घर के बुजुर्ग और बच्चे मौन होकर दुबके हुए से दिखाई देते।
उस दिन उनकी छुट्टी थी। किसी बात पर बहस जारी थी।अचानक जोर की आँधी चलने लगी। गरिमा ने घर की खिड़कियाँ बंद कर दीं किन्तु आंधियों का शोर तब भी दरवाजों को बेधकर अंदर आ रहा था। विवेक भी अपने कमरे की खिड़की से आंधियों का जायजा ले रहे थे।
जब आँधियाँ थम गईं तो गरिमा ने चाय बनाई। एक कप विवेक को थमा कर खुद बालकनी में खड़ी हो गई।
विवेक भी कप लिए वहीं पर आ गए।
पीछे छठी क्लास में पढ़ने वाली छोटी बबली भी आ गई।
" ममा, ये आँधियाँ शोर क्यों करती हैं।"
" जब हवाएँ खुद पर काबू नहीं रख पातीं तो उनके आवेग शोर का रूप धारण कर लेते हैं। "
विवेक ने बबली के सिर पर हाथ फेरते हुए कहा।
" हाँ, पापा, मैंने भी देखा कि पेड़ की डालें एक दूसरे से खूब टकरा रही थी", बबली ने बालसुलभ बात कही।
" हाँ, अब देखो, दोनो डालें धीरे धीरे हिलकर कितनी अच्छी हवा दे रही," इस बार गरिमा ने उत्तर दिया।
"किन्तु उनके टकराने से पुराने पत्ते और फूल जमीन पर गिर गए न।"
इसका जवाब दोनो में किसी ने नहीं दिया।
-ऋता शेखर मधु

शुक्रवार, 3 नवंबर 2017

कोमल हथेली

कोमल हथेली
छह महीने बाद नौकरी से घर लौटे हुए पति अविनाश ने एकांत होते ही रमोला का हाथ पकड़ना चाहा, किन्तु यह क्या! रमोला ने हाथ परे करते हुए मुस्कुराकर पति को गलबहियाँ डाल दी| अविनाश को रमोला का व्यवहार कुछ अजीब सा लगा|
''ठीक तो हो'' अविनाश ने प्यार से पूछा|
''जी, बिल्कुल ठीक हूँ'', कहते हुए उसके थरथरा गए होंठ और आँखों में आई नन्हीं बूँद ने उसके झूठ की चुगली कर ही दी|
अविनाश ने गले से उसकी बाँहों को हटाते हुए हथेली पलट दी उसकी| चिथड़ी हथेलियों ने सच की गवाही दे दी|
शादी के सिर्फ एक वर्ष ही हुए थे| नौकरी पर रहने का इन्तेजाम ठीक से नहीं कर पाया था तो घरवालों के पास ही पत्नी को छोड़ गया था|
रमोला का हाथ पकड़े पकड़े वह माँ के पास गया|
''माँ, कमली कहाँ है? दिख नहीं रही|''
''बेटा, उसे काम छोड़े तो छह महीने हो गए|''

अविनाश के सामने सब कुछ स्पष्ट हो गया|
''माँ, इस छुट्टी के बाद जाऊँगा तो रमोला को साथ ले जाऊँगा|''
''क्यों बेटा, हमसे कोई भूल हुई क्या|''
''नहीं, भूल तो मुझसे हुई| रमोला के पिता ने मुझे कोमल हथेली सौंपी थी| इन हथेलियों को कोमल रखना मेरी जिम्मेदारी है'', कहकर अविनाश ने माँ के सामने रमोला की हथेली फैला दी|
-ऋता शेखर 'मधु'

07/10/17
आश्विन शुक्ल तृतीया-२०७४